SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper टिप्स, स्ट्रैटिजी और Previous Year Question Paper PDF

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper: एक लेख में हमनें SSC CGL के परीक्षा पैटर्न और होने वाले चरणों के बारे में बताया है।

जैसा कि हमनें उस लेख में बताया है कि SSC CGL Tier 3 की परीक्षा डिस्क्रिप्टिव प्रकार की होती है। यानि इस परीक्षा में उम्मीदवारों को प्रश्नों के उत्तर विस्तृत रूप में लिखने पड़ते हैं।

इसलिए यह चरण बहुत ही महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि किसी प्रश्न का विस्तृत उत्तर लिखने के लिए अभ्यास की बहुत अधिक जरूरत पड़ती है।

इस पेपर में आपको ना केवल क्वालिफाईंग मार्क्स लाने हैं बल्कि इसमें आने वाले मार्क्स मेरिट बनाने में भी जोड़े जाते हैं।

इसलिए इस पेपर में आपको अधिक-से-अधिक मार्क्स लाने की कोशिश करनी चाहिए। यदि आप बढ़िया से लिखने का अभ्यास करते हैं तो जरूर अच्छा स्कोर कर सकते हैं।

इस लेख में हमनें Tier 3 में होने वाले पेपर की विस्तृत जानकारी दी है और साथ में एक सैम्पल पेपर भी दिया है जिसके आधार पर आप इसका अभ्यास कर सकते हैं।

साथ ही पिछली परीक्षाओं में पूछे गए प्रश्न भी दिए गए हैं।

लेकिन सबसे पहले जानते हैं कि SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper का परीक्षा पैटर्न क्या है?

यह भी पढ़ें: 
SSC Exams Preparation Tips and Tricks - SSC CGL की तैयारी कैसे करें

SSC CGL और CHSL के लिए Best Books List

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper का परीक्षा पैटर्न

चूंकि इस पेपर में उत्तर विस्तृत रूप में लिखने पड़ते हैं इसलिए आपको ना केवल उत्तर का प्रेज़न्टैशन बढ़िया होना चाहिए बल्कि कुछ आँकड़े भी आपको याद रहने चाहिए।

यह परीक्षा ऑफलाइन ली जाती है और इसमें पेन और पेपर मोड में परीक्षा देनी पड़ती है।

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper की परीक्षा में दो भाग हैं – पहले भाग में किसी टॉपिक पर Essay लिखना होता है और दूसरे भाग में भी पहले से दिए गए टॉपिक पर letter या Application लिखना होता है और precis writing होता है।
इस परीक्षा की कुल समयावधि 60 मिनट की होती है यानि उम्मीदवारों को 1 घंटे में इस पेपर को पूरा करना पड़ता है।

SSC CGL Tier III पेपर 100 मार्क्स का होता है। इसमें Essay राइटिंग 50 मार्क्स का होता है और दूसरे पेपर में यदि Letter या Application के साथ-साथ precis writing भी है तो एक के लिए 20 मार्क्स और दूसरे के लिए 30 मार्क्स हो सकते हैं। इस तरह कुल 100 मार्क्स हो जाते हैं।

अपडेट – इधर कुछ सालों से दूसरे भाग में letter writing से संबंधित प्रश्न नहीं पूछे जा रहे हैं। इसका कोई स्पष्ट कारण पता नहीं है, लेकिन अभ्यर्थियों का कहना है कि यह UFM के कारण ऐसा हो रहा है। Letter writing की जगह Precis writing संबंधित प्रश्न पूछे जा रहे हैं। इसलिए आपको भी Precis writing का अधिक अभ्यास करना चाहिए।

Precis writing से संबंधित प्रश्न कैसे पूछे जाते हैं, इसकी जानकारी के लिए हमनें SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper – 2020 में पूछे गए Precis writing का प्रश्न इस लेख के अंत में दे दिया है।

आपकी आसानी के लिए इसे हम नीचे टेबल में संक्षिप्त रूप में दे रहे हैं-

परीक्षा का मोडऑफलाइन (पेन और पेपर)
परीक्षा की कुल अवधि60 मिनट
कुल मार्क्स100
पेपर के कुल भागदो; पहला भाग Essay राइटिंग और दूसरा भाग application / letter और precis राइटिंग 
Essay के लिए कुल मार्क्स50
Application / Letter और Precis राइटिंग के लिए कुल मार्क्स प्रत्येक के लिए 20 और 30 मार्क्स
उत्तर लिखने के लिए निर्धारित शब्द सीमाEssay के लिए 250 शब्द और लेटर के लिए 150 शब्द
परीक्षा पेपर की भाषाहिन्दी और इंग्लिश (Bilingual)
उत्तर देने की भाषाकेवल हिन्दी या इंग्लिश
क्वालिफाईंग मार्क्स33 (कुल 100 मार्क्स में से )
क्या इस पेपर के मार्क्स फाइनल मेरिट बनाने में जोड़े जाते हैंहाँ

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper क्यों महत्वपूर्ण है?

जैसा कि आपको पता होगा, कर्मचारी चयन आयोग ने अपने सभी परीक्षाओं से इंटरव्यू को हटा दिया है। अब उसकी जगह यह Descriptive पेपर की परीक्षा ली जाती है।

यह परीक्षा किसी उम्मीदवार के केवल ज्ञान की जानकारी लेने के लिए ही नहीं ली जाती है बल्कि इस परीक्षा के द्वारा यह भी देखा जाता है कि किसी उम्मीदवार के द्वारा किसी विषय पर अपने तर्क और मत रखने की कितनी क्षमता है।

साथ ही यह भी देखा जाता है कि उस उम्मीदवार के पास किसी विषय पर कम शब्दों में ही अच्छा लिखने की कितनी क्षमता है। यानि इससे उस उम्मीदवार के शब्द ज्ञान के बारे में भी पता चल जाता है।

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper Sheet Template:

इस परीक्षा में मिलने वाली उत्तर पत्रिका (Answer Sheet) एक plain paper या ruled paper की तरह नहीं है।

जैसा कि ऐकडेमिक शिक्षा के दौरान या कई अन्य परीक्षाओं में उत्तर पत्रिका या तो एक सादा पेपर होता है या उसपर लाइन बनी होती है।

लेकिन CGL Tier 3 Descriptive Paper की परीक्षा में मिलने वाली उत्तर पत्रिका में बॉक्स बने होते हैं और उन्हीं बॉक्सेज़ में उत्तर लिखने होते हैं।

उत्तर पत्रिका का एक शीट टेम्पलेट नीचे चित्र में दिखाया गया है-

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper
SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper के उत्तर पत्रिका का एक शीट टेम्पलेट

उत्तर लिखते समय आपको एक बॉक्स में केवल एक शब्द ही लिखना होता है।

ध्यान देने वाली बात: यदि आप किसी बॉक्स में लिखे शब्द के बाद कोई Punctuation mark जैसे कि Full stop, comma, inverted comma आदि, लगाना है तो आपको उसी शब्द वाले बॉक्स में ही लगाना है। केवल एक Punctuation mark किसी एक बॉक्स में ही नहीं लिख सकते हैं।

उत्तर लिखते समय शब्द सीमा का सख्ती से पालन करें, क्योंकि जैसे-जैसे आप शब्द सीमा के बाद कुछ लिखते हैं तो इससे examiner के ऊपर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और मार्क्स कम होने की संभावना बढ़ जाती है।

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper की तैयारी कैसे करें

इस परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए आपको लिखने की क्षमता विकसित करनी पड़ेगी।

बहुत से अभ्यर्थी SSC CGL परीक्षा की तैयारी के दौरान इस पेपर को उतनी गंभीरता से नहीं लेते हैं और यह सोचते हैं कि Essay और letter राइटिंग उन्होंने स्कूल में बहुत किया है।

लेकिन SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper की तैयारी भी आपको अच्छे से करनी पड़ेगी क्योंकि इसके अंक ना केवल क्वालिफाईंग हैं बल्कि मेरिट लिस्ट बनाने में भी जोड़े जाएंगे।

इसलिए इसकी तैयारी गंभीरता से करें और अभी से अभ्यास शुरू कर दें।

लेकिन सबसे पहले बात आती है कि आपको किस तरह के टॉपिक पर अभ्यास करना है।

साथ ही आप यह भी जानना चाहेंगे कि Essay या letter/application लिखने का तरीका क्या होना चाहिए?

इसके लिए आप नीचे बताए गए स्ट्रैटिजी के अनुसार तैयारी कर सकते हैं-

Essay लिखने का अभ्यास कैसे करें-

किताब से अभ्यास करें – जब आप इस परीक्षा की तैयारी करने जाते हैं तो आपको कुछ भी पता नहीं रहता है कि इस पेपर में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं और उनका उत्तर कैसे लिखना है।

इसलिए सबसे पहले आपको इस परीक्षा से संबंधित किसी अच्छे प्रकाशन के किताब का अध्ययन जरूर करना चाहिए।

इसके लिए आप अरिहंत या किरण प्रकाशन की किताब का अध्ययन कर सकते हैं।

इस तरह के किताबों में previous paper के साथ-साथ model paper भी दिए गए रहते हैं। आप सबसे पहले previous paper को देखें कि कौन-कौन से प्रश्न पूछे जा चुके हैं।

इससे आपको इस बात आइडीआ मिल जाएगा कि इस परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।

बॉक्स बने हुए शीट पर अभ्यास करें – आपको SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper का अभ्यास करते समय plain sheet या ruled sheet का एकदम से प्रयोग नहीं करना है।

जब भी अभ्यास करें तो बॉक्स बने हुए sheet का ही प्रयोग करना है। जैसा कि हमनें ऊपर बताया है कि परीक्षा में उत्तर लिखने के लिए बॉक्स बने हुए sheet मिलते हैं।

इसके लिए आप यह कर सकते हैं के एक सादा A4 sheet लें और उसमें बॉक्स बना लें। फिर इस sheet का अपने जरूरत के अनुसार 50 से 100 की संख्या में ज़ीराक्स करा लें।

समय सीमा का ध्यान रखें– जब आप SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper का अभ्यास कर रहे होते हैं तो आपको टाइम मैनेजमेंट का ध्यान रखना पड़ता है।

जैसे कि परीक्षा में आपको 60 मिनट में यह पेपर करना होता है, इसलिए अभ्यास करते समय भी आपको कोशिश करनी चाहिए कि 60 मिनट में ही आप कम से कम 3 प्रश्नों का उत्तर लिख लें।

किताब में दिए गए model paper का पहले अच्छी तरह से अध्ययन कर लें और उसके बाद उसी उत्तर को अपने शब्दों में लिखने की कोशिश करें।

न्यूज पेपर से टॉपिक नोट करें – जब आप किताब में दिए गए टॉपिक्स पर अभ्यास कर लें तो अब आपको करेंट में घटने वाली घटनाओं पर लिखने का अभ्यास करना चाहिए।

इसके लिए किसी एक न्यूजपेपर से महत्वपूर्ण घटनाओं को अपनी भाषा में कम शब्दों में लिखने की कोशिश करें और उसका एक उचित टॉपिक भी दें।

इस तरह कई टॉपिक्स नोट करें और उनपर अभ्यास करें।

लेटर राइटिंग का अभ्यास का अभ्यास करने के लिए भी आपको सबसे पहले किताब में दिए गए प्रीवीअस पेपर का अवलोकन करना चाहिए।

उसके बाद दिए गए मोडेल पेपर का अभ्यास करना चाहिए।

चूंकि लेटर राइटिंग या application राइटिंग का टॉपिक जरूरी नहीं है कि करेंट से जुड़ी घटनाओं पर हो, इसलिए इसका अभ्यास करते समय आपका ज्यादा ध्यान इसके फॉर्मैट और लिखने के तरीके पर होना चाहिए।

अब बात आती है कि किस विषय से जोड़े टॉपिक्स पर आपको अभ्यास करना है तो इसके लिए आपको previous paper में पूछे गए प्रश्नों को देखना पड़ेगा।

आप देखेंगे कि अधिकतर टॉपिक्स अर्थव्यवस्था, सामाजिक मुद्दे, सरकार के द्वारा लिए गए फैसले, राजनीति, पर्यावरण, विज्ञान और तकनीक आदि विषय से जुड़े हुए हैं।

आपको भी न्यूजपेपर से इन्हीं विषयों से जुड़े टॉपिक्स पर ही अभ्यास करना है। साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि यदि किसी लेख में डाटा दिए गए हैं तो उन्हें भी याद कर लें।

यदि आप Essay लिखते समय डाटा भी देते हैं तो आपके अधिक अंक आने की संभावना रहती है।

इसलिए अपने आप को हमेशा अपडेट रखने के लिए रोज न्यूजपेपर का अध्ययन करें और महत्वपूर्ण टॉपिक्स पर नोट्स बनाते रहें।

क्योंकि Essay के अधिकतर प्रश्न हाल ही में हुई घटनाओं पर ही पूछे जा रहे हैं।

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper की परीक्षा के समय ध्यान देने वाली बातें-

स्ट्रक्चर का ध्यान रखें– परीक्षा के समय आप Essay लिख रहे हों या लेटर या application, हमेशा स्ट्रक्चर का ध्यान रखें।

जैसे कि हम जानते हैं, Essay में पहले कुछ शब्दों में Introduction देना चाहिए, उसके बाद शब्द सीमा के अनुसार कुछ पैराग्राफ में उस विषय पर अपने विचार रखने चाहिए।

बाद में यदि दिए गए टॉपिक पर अच्छाई या बुराई लिख सकते हैं तो जरूर लिखना चाहिए। अंत में कुछ शब्दों में निष्कर्ष लिखना चाहिए।

ऐसे ही लेटर या application लिखते समय इसे तीन भागों में विभाजित कर देना चाहिए। पहले भाग में पता, दूसरे भाग में विषय और तीसरे भाग में निष्कर्ष लिखना चाहिए।

स्पष्ट भाषा का प्रयोग करें- जहाँ तक हो सकते स्पष्ट और साधारण भाषा का प्रयोग करें। इससे अपनी बात आप आसानी से रख सकते हैं और साथ ही गलतियाँ होने की संभावना कम हो जाती है।

शब्द सीमा का ध्यान रखें– इस परीक्षा में शब्द सीमा का बहुत ही महत्व है। जैसे कि आपको Essay लिखने की शब्द सीमा 250 शब्द हैं और लेटर के लिए 150 शब्द।

इसलिए कोशिश करें कि इन्हीं शब्द सीमा में ही अपना उत्तर लिखें। शब्द सीमा से जितना अधिक लिखते हैं उतना ही negative marking होने की संभावना बढ़ती है।

व्याकरण, शब्दों आदि का ध्यान रखें- कोशिश करें कि वाक्यों में किसी तरह के व्याकरण में गलती ना हो। शब्दों में भी मात्राओं की गलती ना करें।

उचित शब्दों का प्रयोग करें और किसी प्रकार के गलत शब्द का प्रयोग ना करें। वाक्यों में punctuation का भी ध्यान रखें।

मुहावरे का प्रयोग भी जरूरत के अनुसार अवश्य करें। इससे कम शब्दों में ही आप बहुत कुछ कह सकते हैं और परीक्षक पर भी इसका अच्छा प्रभाव पड़ता है।

तटस्थ रहें- कभी-कभी लिखते समय कुछ लोग भावनाओं में बह जाते हैं और अपना मत ऐसे रखते हैं जिससे कि उनके किसी व्यक्ति / पार्टी की तरफ झुकाव है।

इससे भी आपके अंक कम होने की संभावना होती है। इसलिए हमेशा तटस्थ रहें और एक परीक्षार्थी की तरह ही अपना मत रखें।

Previsous Year SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper – (Bilingual – English और Hindi)

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper, 2016 (निबंध और पत्र)

निबंध: भूकंप की स्थिति में, आपकी सुरक्षा के लिए, आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए।

Essay- In an event of an Earthquake, for your safety, what you should do and what you should not do. शब्द सीमा – 250 शब्द (50 अंक)

पत्र: यह मानते हुए कि आप सुरेश / सीमा हैं, अपने छोटे भाई नरेश को एक पत्र लिखें, जिसमें बहुविकल्पीय वस्तुनिष्ठ प्रश्नों के लिए कंप्यूटर आधारित परीक्षण के विभिन्न लाभों और कमियों पर प्रकाश डाला गया है।

Letter – Assuming you are Suresh/seema. Write a letter to your younger brother Naresh, highlighting the distinct benefits and shortcomings of CBT (Computer based Test) and what will be the future of it. (150 Words, 50 marks)

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper, 2017 (निबंध और पत्र)

निबंध: अब तक के विमुद्रीकरण ने अपना उद्देश्य कैसे हासिल किया? शब्द सीमा – 250 शब्द (50 अंक)

Essay – How far demonetization has achieved its objectives (250 words, 50 marks)

पत्र: यह मानते हुए कि आप रजनी / राजन हैं और आपने एक सार्वजनिक उपक्रम में मार्केटिंग मैनेजर के रूप में चयन किया है और तत्काल इसमें शामिल होना है। सम्मिलित होने की तिथि बढ़ाने के लिए अपने वरिष्ठ को पत्र लिखें। शब्द सीमा – 150 शब्द (50 अंक)

Letter – Assuming you are Rajan/Ragini and you have selected as the marketing manager in a public enterprise. write a letter to the concerned person that you will not be able to join immediately. You live at Lodhi road, Delhi (150 Words, 50 marks)

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper, 2018 (निबंध और पत्र)

निबंध: वर्तमान समय में शिक्षा का महत्व। शब्द सीमा – 250 शब्द (50 अंक)

Essay – Importance of Education in Present Times (250 words, 50 marks)

पत्र: आप सुनीता / सुनील, गांधी रोड, द्वारका, नई दिल्ली, 110083 के निवासी हैं, प्रबंधक को एक पत्र लिखकर, जी डी रेस्तरां ने उनकी खराब सेवा और भोजन की गुणवत्ता के बारे में शिकायत की। शब्द सीमा – 150 शब्द (50 अंक)

Letter – You are Sunita/Sunil resident of Gandhi road, dwarka, New delhi, 110083, write a letter to manager, G D Restaurant complaining about their poor service and the quality of food. (150 Words, 50 marks)

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper, 2019

Essay: Importance of Environmental impact assessment in India. (250 words)

Precis: How the relationship between Speaker & audience should have.

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper, 2020

Eassy : कोविड -19 का भारतीय जीवन पर प्रभाव / Effect of Covid-19 on the life in India

Precis : निम्नलिखित अनुच्छेद का लगभग 80-90 शब्दों में संक्षेपण कीजिए और उपयुक्त शीर्षक भी दीजिए |
मानव प्राचीन काल से ही मादक पदार्थों का सेवन करता आया है | समाज में इसका प्रयोग एकदम नया नहीं है। प्राचीन काल में मादक पदार्थों में तम्बाकू, भाँग, गाँजा, चरस और शराब हुआ करती थी। इन सबका प्रयोग समाज में होता था, लेकिन उसकी मात्रा कम थी। कभी-कभार खुशी के अवसर पर मित्रों की संगत में या अकेलेपन में मनुष्य इनका सेवन करता था। इन पदार्थों के सेवन से मनुष्य का मन कुछ समय के लिए यथार्थ स्थिति से अलग हो जाता था। रक्त का संचार तीव्र होने लगता है, जिससे मदहोशी सी छा जाती है और मनुष्य कुछ सोच नहीं पता है | ऐसे भ्रम को सुख मानकर क्षणिक सुख की अनुभूति के लिए इनका सेवन किया जाता था। इन सबका अधिक प्रयोग करने वाला समाज में हेय दृष्टि से देखा जाता था।

लेकिन उनन्‍नीसवी शताब्दी के उत्तरार्द्ध में आकर तो समाज का हर वर्ग इसका प्रयोग करने लगा है। लोगों ने जीवन को नशे में उड़ाना शुरू कर दिया। आज समाज का निम्न वर्ग, उच्च वर्ग, मध्यम वर्ग, अमीर-गरीब, छात्र-छात्राएँ, व्यापारी-मजदूर, रिक्शे वाले-ट्रक वाले सभी इनका सेवन करने लगे हैं। सर्वेक्षण करने पर पता चलता है कि कोई गम भूलने के लिए तो कोई मित्रों की वाहवाही में, कोई जीवन का अकेलापन दूर करने के लिए, कोई हीनभावना,से ग्रस्त होने से तो कोई आधुनिक सभ्य होने के भ्रम में इन मादक पदार्थों का सेवन करते हैं | समय की गति के साथ-साथ मादक पदार्थो की मात्रा भी बढ़ती गई है। अब कोकेन आदि नशीली दवाओं का सेवन प्रचलन में हो गया है। (अंक 50)(260 शब्द)

Write a precis of the following article in about 80-90 words and give a suitable title
Human have been using psychotropic drugs from ancient times. Its usage is not new to the society. In the ancient times tobacco, bhang, ganja, charas and liquor were in use in the form of intoxicants. All these were in use in society but the quantity used was less. There were consumed by humans once in a while on happy occasions, in the company of friends or while feeling lonely. After consuming these substances, a person feels detached from the realty for some times. Blood circulation gets increased giving thereby a tipsy feeling and person becomes unable to think. Considering this illusion as happiness, for feeling of a momentary happiness, these were consumed. A person consuming these substances in abundance was looked down upon by the society.

But towards second halt of the nineteenth century every class of society started consuming these substances. People have started immersing their lives in intoxication. Today, the lower class, higher class, middle class, rich-poor, students, businessmen, labour-class, rickshaw pullers, truck drivers, all have started using these. A survey reveals that some consume it to forget their sorrows, some consume to get appreciation of their friends, some to overcome their loneliness, some because of being victims of inferiority complex, while others for getting a false feeling of being ‘modern and civilized’. With the passage of time the quantity of intoxicants used has also increased. Now a days, drugs like cocaine etc are in use. (50 marks) (about 240 words)

SSC CGL के GST इन्स्पेक्टर को कितनी सैलरी मिलती है?

SSC CGL के टैक्स असिस्टेंट को कितनी सैलरी मिलती है?

निष्कर्ष:

SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper की परीक्षा SSC CGL के मेरिट लिस्ट में अच्छा स्थान पाने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस पेपर में ना केवल आपको क्वालिफाईंग मार्क्स यानि 100 में से 33 लाने हैं बल्कि ये मार्क्स Tier-I और Tier-II में मिले मार्क्स के साथ भी जोड़े जाएंगे।

इसलिए इस पेपर में अच्छे मार्क्स लाना बहुत ही जरूरी है।

इस पेपर में एक अच्छा स्कोर लाना एकदम संभव है और आप इसे कर भी सकते हैं। बस इसके लिए जरूरी है कि महत्वपूर्ण टॉपिक्स पर अच्छे से अभ्यास किया जाए।

टॉपिक्स के लिए आप किसी अच्छे प्रकाशन की किताब का अध्ययन कर सकते हैं और साथ ही करेंट टॉपिक के लिए प्रतिदिन न्यूज पेपर के अध्ययन की भी जरूरत है।

यदि आप एक सही स्ट्रैटिजी के साथ SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper की तैयारी करते हैं तो जरूर अच्छा स्कोर कर सकते हैं। कोशिश करें कि इसमें कम-से-कम 70 से 75 का स्कोर करें।

Leave a Comment

SSC CGL 2022 परीक्षा पैटर्न में बदलाव SSC CGL 2022 Notification Out : Apply Online FCI Manager Recruitment 2022 Notification Out Earned Leave Rules for central government employees