GRE General Test क्या होता है और विदेशों में पढ़ाई के लिए यह क्यों जरूरी है?

GRE General Test: यदि आप विदेशों में पढ़ाई करने के लिए जाना चाहते हैं तो आपको पहले कुछ टेस्ट देने होते हैं। 

एक तरह से समझिए कि ये टेस्ट इसलिए होते हैं कि यह पता चल सके कि आप जिस कोर्स के लिए विदेशी यूनिवर्सिटी या कॉलेज में जाना चाहते हैं उसके लायक हैं कि नहीं। 

इन्हीं टेस्ट में से एक होता है GRE General Test.  यदि आप भी विदेशों में पढ़ाई करने के लिए सोच रहे होंगे तो आपने जरूर इस टेस्ट के बारे में सुना होगा। विदेशों में यदि आप Higher Education के लिए जाना चाहते हैं तो आपको यह टेस्ट देना होता है। 

GRE General Test क्या होता है
GRE General Test क्या होता है.
यह भी पढ़ें:

प्रसिद्ध Freelancing वेबसाईट
 
12वीं के बाद जॉब ओरिएंटेड Short Term Courses

इस लेख में हमनें इसी टेस्ट के बारे में विस्तृत जानकारी दी है कि GRE General Test होता क्या है, इस परीक्षा के लिए फीस कितनी है, योग्यता क्या होनी चाहिए, इसका सिलेबस क्या है और भी बहुत कुछ। 

तो आईए जानते हैं कि GRE General Test होता क्या है। 

GRE General Test क्या होता है?

GRE का full form होता है – Graduate Record Examination. इसे ETS यानि Educational Testing Service द्वारा कन्डक्ट करवाया जाता है।

यदि कोई छात्र विदेशों में Master of Science या Graduate studies के लिए जाना चाहता है तो उसे GRE General Test देना पड़ता है क्योंकि यह विदेशों में Graduate Admission के लिए जरूरी होता है।

कई International Universities जिनमें अमेरिका और कनाडा की भी Universities हैं, छात्रों का admission लेते समय GRE स्कोर जरूर देखती हैं। इससे छात्रों की उन universities में पढ़ने की योग्यता का पता चलता है।

विश्व के लगभग 180 देशों के अधिकतर कॉलेज और यूनिवर्सिटी अपने यहाँ admission देने से पहले GRE स्कोर को देखते हैं। GRE टेस्ट को ये क्वालिफाईंग Examination मानते हैं।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि केवल GRE टेस्ट में अच्छे नंबर लाने से विदेशी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में admission मिल जाएगा। यह केवल एक टेस्ट है जिससे पता चलता है कि आप उन देशों के कॉलेज या यूनिवर्सिटी में admission प्राप्त करने के काबिल जहाँ GRE टेस्ट को भी क्वालिफाईंग स्टेप की तरह मानते हैं।

GRE के लिए योग्यता

ETS के द्वारा GRE Exam के लिए कोई विशेष योग्यता निर्धारित नहीं की गई है। इस टेस्ट में भाग लेने के लिए कोई भी छात्र योग्य है।

GRE Test के लिए ETS द्वारा कोई उम्र सीमा भी निर्धारित नहीं की गई है और ना ही इसके लिए किसी तरह के शैक्षिक योग्यता निर्धारित की गई है। फिर भी उम्मीदवारों से यह आशा की जाती है कि उन्होंने किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या कॉलेज से किसी भी विषय में स्नातक डिग्री पूरी कर ली हो।

जहाँ तक documents की बात है तो इस टेस्ट में भाग लेने वाले छात्रों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनके पास अपनी पहचान सिद्ध करने के लिए Original Passport का होना जरूरी है। पासपोर्ट का फोटो कॉपी मान्य नहीं है।

यह पासपोर्ट उन्हें परीक्षा केंद्र पर दिखाना होता है। पासपोर्ट में उस candidate का पूरा नाम, फोटोग्राफ और signature स्पष्ट रूप से दिखाई देने चाहिए।

इसलिए जो छात्र GRE Test के लिए रजिस्टर करना चाहते हैं उनके पास पहले से ही वैध पासपोर्ट होना चाहिए।
लेकिन covid के चलते 1 जुलाई 2021 से यह छूट दी गई है कि छात्र GRE रजिस्ट्रेशन के समय पहचान सिद्ध करने के लिए आधार कार्ड का प्रयोग कर सकते हैं।

GRE की परीक्षा कब आयोजित की जाती है?

GRE परीक्षा की खास बात यही है कि यह पूरे साल आयोजित की जाती है। कोई भी छात्र अपने सुविधानुसार कभी भी परीक्षा में शामिल हो सकता है। साल भर में परीक्षा आयोजित करने की तिथि की घोषणा ETS द्वारा पहले ही कर दी जाती है।

कोई भी छात्र इस परीक्षा में कई बार शामिल हो सकता है। लेकिन उसे इस बात का ध्यान रखना है कि वह 12 महीने की अवधि के दौरान अधिकतम पाँच बार ही शामिल हो सकता है।

साथ ही उसे इस बात का भी ध्यान रखना है कि दो परीक्षाओं के बीच उसे 21 दिन का अंतर रखना पड़ेगा। यानि दूसरी बार परीक्षा में शामिल होने के लिए उसे 21 दिन का इंतजार करना पड़ेगा।

GRE परीक्षा की एक और विशेषता यह है कि छात्रों की इस बात की छूट रहती है कि वो अपने किसी भी GRE स्कोर को कॉलेज या यूनिवर्सिटी में दिखा सकते हैं। इससे यह फायदा होता है कि जिस GRE टेस्ट में अधिक अंक मिले हैं उसे उन कॉलेजों या यूनिवर्सिटी के साथ शेयर किया जा सकता है।

GRE स्कोर की वैधता (Validity)

यह भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात है कि GRE स्कोर की केवल पाँच साल की वैधता अवधि होती है। इस अवधि की गणना परीक्षा की तिथि के बाद से की जाती है।

GRE General Test फॉर्मैट:

यह परीक्षा तीन फॉर्मैट में ली जाती है-

कंप्युटर आधारित टेस्ट:

कंप्युटर आधारित GRE टेस्ट निर्धारित टेस्ट सेंटर पर लिया जाता है।

चूंकि इस समय लगभग सभी देशों में इंटरनेट की अच्छी पहुँच है इसलिए परीक्षा का यह फॉर्मैट सभी देशों में उपलब्ध है। और इसी फॉर्मैट का अधिकतर प्रयोग भी किया जाता है।

पेपर आधारित GRE टेस्ट :

इस फॉर्मैट में परीक्षा उन जगहों पर ली जाती है जहाँ इंटरनेट की अच्छी सुविधा नहीं है।

इसके लिए भी टेस्ट सेंटर निर्धारित होते हैं जहाँ पर जा कर छात्रों को परीक्षा देनी होती है। पेपर आधारित यह परीक्षा पेन और पेपर के माध्यम से ली जाती है।

लेकिन GRE टेस्ट के लिए परीक्षा का यह फॉर्मैट अपने देश में उपलब्ध नहीं है और इसीलिए छात्रों को कंप्युटर आधारित टेस्ट फॉर्मैट को ही चुनना पड़ता है।

होम टेस्ट:

यह टेस्ट फॉर्मैट covid के खतरे को देखते हुए हाल ही में लॉन्च किया गया है। इस माध्यम के द्वारा कोई छात्र अपने घर से ही परीक्षा दे सकता है।

छात्रों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इस फॉर्मैट को ETS द्वारा लॉन्च किया गया है। लेकिन इसके लिए ETS द्वारा निर्धारित मानकों के अनुसार कंप्युटर सिस्टम होना चाहिए।

साथ ही परीक्षा के दौरान घर में जरूरत के अनुसार परीक्षा का वातावरण भी होना चाहिए।

भारत में GRE परीक्षा केंद्र:

भारत में GRE परीक्षा केंद्र महत्वपूर्ण शहरों में उपलब्ध हैं और परीक्षार्थी अपनी सुविधानुसार परीक्षा केंद्र का चुनाव कर सकते हैं।

भारत में मुख्यतया जिन शहरों में GRE परीक्षा केंद्र बनाए जाते हैं उनकी सूची इस प्रकार है-

  1. अहमदाबाद 
  2. इलाहाबाद 
  3. बैंगलोर 
  4. चेन्नई 
  5. कोचीन 
  6. कोयम्बटूर 
  7. देहरादून 
  8. गांधीनगर 
  9. मुंबई 
  10. पुणे 
  11. गुरुग्राम या गुड़गांव 
  12. ग्वालियर 
  13. हैदराबाद 
  14. इंदौर 
  15. कोलकाता 
  16. नासिक 
  17. नई दिल्ली 
  18. निजामाबाद 
  19. पटना 
  20. त्रिवेंद्रम 
  21. वडोदरा 
  22. विजयवाड़ा
  23. चंडीगढ़
  24. मैसूर

GRE परीक्षा पैटर्न:

GRE परीक्षा को तीन मुख्य Sections में बांटा गया है और ये GRE कंप्युटर आधारित और पेपर आधारित दोनों प्रकार की परीक्षाओं के लिए हैं।

  1. Analytical Writing Section
  2. Verbal Reasoning Section
  3. Quantitative Reasoning Section

लेकिन GRE कंप्युटर आधारित और पेपर आधारित परीक्षाओं के पैटर्न के बीच थोड़ा अंतर भी है और ये इस प्रकार से है-

परीक्षा की समयावधि यानि duration- GRE की दोनों प्रकार की परीक्षाओं में समयावधि का अंतर है। जहाँ GRE कंप्युटर आधारित परीक्षा की समयावधि 3 घंटे 45 मिनट की है वहीं GRE पेपर आधारित परीक्षा की समयावधि 3 घंटे 30 मिनट की है।

GRE पेपर आधारित परीक्षा में Reading comprehension से संबंधित प्रश्न नहीं पूछे जाते हैं जबकि GRE कंप्युटर आधारित परीक्षा में इस तरह के प्रश्न आते हैं।

Quant और Verbal से संबंधित प्रश्नों की संख्या GRE पेपर आधारित परीक्षा में 25 होती है जबकि कंप्युटर आधारित परीक्षा में इनकी संख्या 20 होती है।

इसे और अच्छी तरह से समझने के लिए नीचे दिए गए टेबल को देखें-

GRE पेपर आधारित परीक्षा पैटर्न-

पेपर के SectionसमयावधिTasks या प्रश्नSections
Analytical Writing60 मिनट22
Verbal Reasoning70 मिनट502
Quantitative Reasoning80 मिनट502

GRE कंप्युटर आधारित परीक्षा पैटर्न-

पेपर के Section समयावधि Tasks या प्रश्न Sections
Analytical Writing 60 मिनट 21
Verbal Reasoning 60 मिनट 402
Quantitative Reasoning 70 मिनट 402

भारत में GRE General Test के लिए आवेदन शुल्क:

भारतीय छात्रों के लिए GRE General Test के लिए आवेदन शुल्क 213 अमेरिकी डॉलर है। इसके अलावा Special Handling Requests शुल्क भी होता है।

यहाँ Special Handling Requests शुल्क का मतलब है कि यदि कोई छात्र अपने परीक्षा केंद्र या परीक्षा तिथि में बदलाव चाहता है तो उसे कुछ अतिरिक्त शुल्क देना पड़ता है। यह अतिरिक्त शुल्क भारतीय छात्रों के लिए 25 डॉलर से लेकर 50 डॉलर तक है।

GRE General Test के लिए रजिस्ट्रेशन:

GRE परीक्षा की यह भी एक खास बात है कि आप इस परीक्षा के लिए चार प्रकार से अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं- ऑनलाइन, फोन के द्वारा, मेल भेजकर और फैक्स के द्वारा।

इनमें से सबसे ज्यादा प्रयोग किये जाने वाले तरीके हैं- ऑनलाइन और फोन के द्वारा।

रजिस्ट्रेशन शुल्क को डेबिट या क्रेडिट कार्ड से भुगतान किया जा सकता है। रजिस्ट्रेशन के समय जो सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण document है वह है-पासपोर्ट। भारतीय छात्रों के लिए अब आधार नंबर को भी मान्य कर दिया गया है।

निष्कर्ष:

यदि कोई छात्र विदेशी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में उच्च शिक्षा के लिए जाना चाहता है तो उसे कुछ जरूरी परीक्षाएं देनी पड़ती हैं। GRE General Test भी ETS द्वारा कराई जाने वाली एक परीक्षा है जिसका स्कोर विदेशी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेने के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है।

GRE स्कोर को विश्व के लगभग 180 देशों के कॉलेज और यूनिवर्सिटी अपने यहाँ विदेशी छात्रों को एडमिशन देने के लिए जरूरी मानती हैं।

इस लेख में हमनें इसी GRE General Test के बारे में कुछ जरूरी जानकारी उपलब्ध कराई है।

इस लेख को पढ़ने के बाद आपको यह पता चलेगा कि GRE General Test क्या होता है, इस टेस्ट के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए, परीक्षा पैटर्न क्या है, रजिस्ट्रेशन शुल्क क्या है और भी बहुत कुछ।

Leave a Comment

Republic Day 2022 Speech हिन्दी में कैसे लिखें Happy 73rd Republic Day 2022 SSC CGL Tier 3 Descriptive Paper Tips and Strategy Holiday Homes Online Booking कैसे करें