Johnson Baby Powder : टैल्क वाला यह पाउडर अब नहीं मिलेगा

Johnson Baby Powder का उत्पादन हुआ बंद : यदि आप अपने बच्चों के लिए Johnson Baby Powder खरीदते हैं तो सावधान हो जाईए। क्योंकि जॉनसन बेबी पाउडर बनाने वाली कंपनी Johnson & Johnson स्वास्थ्य समस्याओं के कारण इस टैल्क आधारित पाउडर का उत्पादन बंद करने जा रही है। हालाँकि कंपनी इसे व्यावसायिक निर्णय बता रही है।

जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी वर्ष 1894 से ही इस बेबी पाउडर को बेच रही है और फैमिली फ्रेंडली होने की वजह से कंपनी का सिंबल प्रॉडक्ट बन गया था।

जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी अगले साल से ही विश्व स्तर पर Talc वाला Johnson Baby Powder को बनाना और बेचना पूरी तरह से बंद कर देगी। कंपनी ने अमेरिका में अपने इस पाउडर की बिक्री को दो साल पहले ही बंद कर दिया था। लेकिन अब इसका उत्पादन globally बंद कर दिया जाएगा।

लेकिन क्या वजह है कि अपने बच्चों के लिए महिलाओं द्वारा पसंद किया जाने वाला इस पाउडर का उत्पादन अब बंद कर दिया जाएगा?

तो आईए जानते हैं इसकी मुख्य वजह क्या है?

Johnson Baby Powder के उत्पादन बंद करने का कारण

Johnson Baby Powder का उपयोग करने वाली महिलाओं ने यह दावा किया है कि इसके उपयोग से उनमें ओवरी कैंसर यानि गर्भाशय का कैंसर हो गया है। उनका कहना है कि इस उत्पाद में एस्बेस्टस का कुछ अंश है जो गर्भाशय कैंसर के लिए उत्तरदायी है।

टैल्क वाले इस बेबी पाउडर में हाइड्रेटेड मैग्निशियम नामक खनिज मिलाया जाता है। यह खनिज धरती के अंदर उस जगह पर पाया जाता है जहां एस्बेस्टस की भी परतें होती हैं। इससे एस्बेस्टस का कुछ अंश इस खनिज पदार्थ में चला आता है और पाउडर में इसके होने की संभावना होती है। आपको पता होगा कि एस्बेस्टस को कैंसर पैदा करने वाले पदार्थ के रूप में जाना जाता है।

इसको लेकर महिलाओं ने जॉनसन ऐंड जॉनसन कंपनी पर लगभग 38 हजार मुकदमें कर दिए हैं।

इन मुकदमों के बाद अमेरिका की एक कोर्ट ने जॉनसन ऐंड जॉनसन कंपनी पर 15 हजार करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया। उसके बाद अमेरिका और कनाडा में इस पाउडर की मांग काफी कम हो गई और कंपनी ने बिक्री घटने का बहाना बनाकर वर्ष 2020 में अमेरिका और कनाडा में इसे बेचना बंद कर दिया।

लेकिन विश्व स्तर पर इसकी बिक्री जारी रखी।

जॉनसन ऐंड जॉनसन कंपनी का क्या है कहना

कंपनी ने कहा है कि उत्पादन से पहले दशकों तक शोध किया गया है और इसलिए यह उत्पाद उपयोग के लिए सुरक्षित है।

कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया है कि “इस उत्पाद को लेकर दुष्प्रचार के कारण लोगों के अंदर भ्रम और बेवजह चिंता पैदा हो गई है।“

कंपनी के एक घोषणा में कहा गया है कि “हमारे कॉस्मेटिक टैल्क की सुरक्षा पर हमारी स्थिति अपरिवर्तित बनी हुई है। हम दुनिया भर के चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा दशकों के स्वतंत्र वैज्ञानिक विश्लेषण के पीछे मजबूती से खड़े हैं जो पुष्टि करता है कि तालक-आधारित जॉनसन बेबी पाउडर सुरक्षित है, इसमें एस्बेस्टस नहीं है, और यह कैंसर का कारण नहीं बनता है”।

अब इस पाउडर की जगह क्या बेचेगी कंपनी

कंपनी का कहना है कि टैल्क आधारित बेबी पाउडर की जगह अब कॉर्नस्टार्च आधारित बेबी पाउडर का उत्पादन किया जा रहा है और इसे पहले से ही दुनिया भर के अन्य देशों में बेचा जा रहा है।

कॉर्नस्टार्च भी मक्के का आटा ही होता है लेकिन इसे बनाने के लिए मक्के के दाने से छिलका हटा दिया जाता है, जिससे प्रोटीन और फाइबर खतम हो जाते हैं। इससे आटा सफेद दिखाई देता है।

आपके लिए सुझाव

यदि आप भी अपने बच्चों के लिए यह बेबी पाउडर खरीदते हैं तो अब से टैल्क वाला बेबी पाउडर की जगह कॉर्नस्टार्च मिला हुआ बेबी पाउडर ही खरीदें।

कॉर्नस्टार्च आधारित Johnson Baby Powder अब ऑनलाइन भी उपलब्ध है।

Leave a Comment

SSC CGL 2022 परीक्षा पैटर्न में बदलाव SSC CGL 2022 Notification Out : Apply Online FCI Manager Recruitment 2022 Notification Out Earned Leave Rules for central government employees